The same article is also available in Nepali and English

1. कोरोनावायरस और कोविड-19 क्या है?

        कोरोनावायरस एक प्रकार का श्वसन वायरस है (वायरस जो श्वास मार्ग को नाक, गले और फेफड़ों को संक्रमित करता है)। नाम वायरस के आकार से लिया गया है जो मुकुट जैसा दिखता है (लैटिन में कोरोना का अर्थ है मुकुट)। अन्य श्वसन वायरस इन्फ्लूएंजा, पैरेन्फ्लुएंजा, खसरा, राइनो (सामान्य सर्दी जुखाम वाला वायरस) आदि।

     कोरोनोवायरस लंबे समय से मौजूद हैं। पहला कोरोनोवायरस 1920 के में खोजा गया था। कोरोनाविरस के अन्य प्रकार सीवेर एक्यूट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम (सार्स) के 2003 में चीन और मिडल ईस्ट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम (मर्स) में 2012 में सऊदी अरब में फैलने के कारण बने। चीन के वुहान में 2019 के अंत में फ्लू जैसे लक्षण के साथ लोग बीमार होने लगे। यह एक नए प्रकार के कोरोनावायरस के कारण पाया गया। क्योंकि 2019 में नए प्रकार के कोरोनावायरस की खोज की गई थी, इसलिए इसे कोविड 19 (कोरोनावायरस डिजीज 2019) कहा गया। यह वायरस आसानी से फैलता है और तब से पूरी दुनिया को प्रभावित कर चुका है।

2. यदि बहुत सारे श्वसन वायरस हैं तो केवल कोविड इतनी तेजी से क्यों फैल रहा है?

       जैसा कि आपने स्कूल में पढ़ा होगा, हमारे आसपास हर जगह सूक्ष्म जीव हैं। उनमें बैक्टीरिया, वायरस, प्रोटोजोआ और कवक शामिल हैं। वे केवल शक्तिशाली सूक्ष्मदर्शी के साथ दिखाई देते हैं। वायरस तो केवल सबसे शक्तिशाली इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी के साथ हि दिखाई देते हैं। इनमें से कई सूक्ष्म जीव हानिरहित हैं लेकिन कुछ हानिकारक, जिन्हें रोगाणु कहलाते हैं। हम लगातार इनके संपर्क में हैं। और कितने रोगाणु को अपने साथ लेकर घूमते हैं- मुंह, अंतड़ियों और त्वचा में।

     जब कोई हानिकारक सूक्ष्म जीव शरीर के ऐसे हिस्से में प्रवेश करता है, जहां उसे सामान्य रूप में नहीं होना चाहिए, उसे संक्रमण कहा जाता है। संक्रमण का मतलब यह नहीं है कि व्यक्ति लक्षणों का विकास करेगा। यदि रोगाणु प्रजनन होकर बहुत ज्यादा अंक में बढ़ जाते हैं और अंग को हानी करतें हैं, तो रोग होता है और रोग से लक्षण होती हैं। उदाहरण के लिए, पोलियो वायरस में केवल 1% बच्चों में लक्षण विकसित होते हैं और शेष 99% पूरी तरह से लक्षण मुक्त होते हैं।

      हर स्वस्थ व्यक्ति के अन्दर कई हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस होता है, और वह इनसे कभी कभी संक्रमित भी होता है लेकिन पूरी तरह से लक्षण रहित होता है। दोनों स्पर्शोन्मुख और जो रोगग्रस्त स्थिति में, हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक कोशिकाएं सक्रिय रूप से रोगाणु से लड़ती हैं (स्पर्शोन्मुख लोगों में, शायद कोशिकाएं बहुत अच्छी तरह से लड़ती हैं या रोगाणु बहुत कम मात्रा में प्रवेश होती है जो लक्षणों को विकसित होने से रोकती है)।

     तो रोग प्रतिरोधक कोशिकाएं कीटाणुओं के संपर्क में आने से प्रशिक्षित होती हैं। बाद में, अगर वही रोगाणु फिर से संक्रमण करतें हैं तो कोशिकाएं अधिक तेजी और अधिक क्षमता से लड़ती हैं, ताकि बीमारी न हो या हल्का बीमारी हो। जैसा कि हम लगातार कीटाणुओं के संपर्क में  हैं, हमने उनके खिलाफ रोग प्रतिरोधक शक्ति विकसित की है।

      अब, कोविड-19 वायरस पूरी तरह से एक नया वायरस है और 2019 से पहले किसी को भी इससे संक्रमण नहीं हुआ था और इसलिए किसी का भी इसके प्रति रक्षा क्षमता नहीं है इसलिए यह बहुत तेजी से फैल रहा है। हालाँकि केवल 20% (भारतीय डेटा) में लक्षण होती है और केवल 1.5% में बीमारी घातक बन जाता है।

3. कोरोनावायरस (कोविड-19) कैसे फैलता है?

      लोग कोविड-19 को उन लोगों से भी पकड़ सकते हैं जिनके पास कोई लक्षण नहीं होने पर भी वायरस हैं। जब एक संक्रमित व्यक्ति सांस लेता है, बातचीत करता है, छींकता या खांसी करता है, वह हवा में वायरस के छोटी बूंदें भेजता है। ये किसी व्यक्ति के नाक, मुंह, या आंखों पर गीर सकता है। और उन्हे सांस के दौरा सेवन कर सकता है।

4. कोविड-19 के लक्षण क्या हैं?कोविड-19 के लक्षण

       1 से 14 दिनों के ऊष्मायन अवधि (शरीर में वायरस के प्रवेश के बाद लक्षण शुरु होने के लिए समय) के बाद, कोविड-19 बुखार, खांसी और सांस फूलने का कारण बन सकता है। कुछ लोगों निम्न लक्षण भी हो सकते हें:

  • जुखाम के लक्षण जैसे गले में खराश, नाक बंद या बहना
  • मांसपेशियो में दर्द
  • सरदर्द
  • स्वाद या गंध में कमी (यह कोविड-19 का विशिष्ट है)
  • उलटी अथवा मितली
  • दस्त
  • थकान और शरीर में दर्द
  • कुछ लोगों में बीमारी अधिक गंभीर हो सकता है। लेकिन कुछ लोगों में संक्रमण का लक्षण नहीं होता।

5. कोविड-19 संबन्धित गंभीर बीमारी के लिए कौन खतरे मैं हैं? मुझे चिंता है कि मेरे घर में बच्चे हैं।

  1. बुजुर्ग- बढ़ती उम्र के साथ इस बीमारी के गंभीर होने की संभावना है। दूसरी ओर बच्चों और शिशुओं को ज्यादातर स्पर्शोन्मुख या हल्के रोग होता है।
  2. मधुमेह और उच्च रक्तचाप। अनियंत्रित मधुमेह और उच्च रक्तचाप में यह बीमारी बदतर है।
  3. जिगर, फेफड़े, गुर्दे, हृदय, रक्त या कैंसर जैसे किसी भी अंग की दीर्घकालिक बीमारी।
  4. बीमारी या स्टेरॉयड और कैंसर विरोधी दवाओं के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी (लोकप्रिय धारणा के विपरीत, हर दो-तीन महीनों में बच्चों में जुखाम और बुखार सामान्य है और यह रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी का संकेत नहीं है)।

6. मुझे बुखार, खांसी और जुकाम हो रहा है। मैं चिंतित हूं कि यह कोविड-19 है? मुझे क्या करना चाहिए?

       हम सभी को अतीत में (कोविड-19 महामारी से पहले) कभी ना कभी इस तरह की बीमारी हुई थी। सामान्य जुकाम या फ्लू भी कोरोना की नकल करता है। पहले खुद को अलग करें, सामाजिक दूरी का पालन करें, हाथ की सफाई और मास्क पहनें। यह सभी वायरस (न केवल कोरोना) के प्रसार को रोकने में मदद करता है।

     यदि आप उस समूह से हैं जिन्हें गंभीर बीमारी का अधिक खतरा है या आपका सांस फूल रहा है तो अपने नजदीकी अस्पताल या फ़्लू-क्लिनिक जाएं। परन्तु हल्के लक्षणों के साथ आपातकालीन विभाग में न जाएं (और अपने बच्चे को भी न ले जाएं)। आप इस लेख को भी पढ़ सकतें हें “बुखार से पीड़ित बच्चों का कब घर पर इलाज करना उचित है और कब डॉक्टर के पास जाना चाहिए?”

7. मुझे किसी और कारण से अस्पताल जाना है। मुझे चिंता है कि डॉक्टर मेरा कोरोना टेस्ट करवाएंगे?

     नवीनतम आईसीएमआर (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) दिशानिर्देशों के अनुसार केवल रोगसूचक लोगों का परीक्षण किया जाता है। साथ ही, डॉक्टर कई बीमारियों के लिए दशकों से परीक्षण कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, अगर किसी को सर्जरी की आवश्यकता तो आमतौर पर रक्त-अणु की गिनती, लिवर और किडनी के कार्य परीक्षण नियमित रूप से किए जाते हैं। संक्षेप में, अगर आपको अन्य कारणों से अस्पताल जाने की आवश्यकता है तो आपको अवश्य जाना चाहिए।

8. वैक्सीन क्या है? यह मुझे कोरोना से कैसे बचाएगा?वैक्सीन क्या है? यह मुझे कोरोना से कैसे बचाएगा?

     जैसा कि मैंने पहले कहा, हमारी रोग-प्रतिरोधी कोशिकाओं को बैक्टीरिया और वायरस से लडने में प्रशिक्षण मिलता है जब वे उस विशेष रोगाणु के संपर्क में आतें हैं। वैक्सीन (टीके) या तो मारे गए, या गंभीर रूप से कमजोर किए गए बैक्टीरिया या वायरस होते हैं।

      जब टीके किसी को दिया जाता है तो वे संक्रमण की नकल करते हैं और रोगाणु से लड़ने के लिए हमारी प्रतिरक्षा कोशिकाओं को उत्तेजित और प्रशिक्षित करते हैं। हालांकि, वे बीमारी पैदा करने में असमर्थ हैं। भविष्य में जब असली रोगाणु से वह व्यक्ति संक्रमित होता है, तो प्रतिरक्षा कोशिकाएं ऐसे लड़ती हैं जैसे कि दूसरी बार रोगाणु को देख रहे हो। हालांकि, कुछ टीकों को प्रभावी होने के लिए दो या उससे अधिक खुराक की आवश्यकता होती है।

        आमतौर पर एक नया टीका तैयार करने में 7 से 10 साल तक का समय लगता है। क्योंकि कई देश इसके लिए जोर दे रहे हैं, कोविड-19 वैक्सीन आम जनता के लिए बहुत जल्द उपलब्ध होने की उम्मीद है।

9. क्या कोविड-19 के आगे प्रसार को रोकने के लिए हर किसी को प्रतिरक्षित होने की आवश्यकता है?

      आमतौर पर अगर 70 से 80% लोग प्राकृतिक संक्रमण के या टीकाकरण के कारण प्रतिरक्षित होते हैं तो संचरण रुक जाता है क्योंकि सक्रिय रूप से संक्रमण फैलाने वाले लोग प्रतिरक्षित को तुलना में बहुत कम होंगे। यह स्पर्शोन्मुख वाहक स्थिति को भी रोकेगा। इस अवस्था को झुंड प्रतिरक्षित कहा जाता है।

10. मैं पहले ही कोरोना संक्रमण से ठीक हो गया हूं, क्या मुझे मास्क पहनने और सामाजिक दूरी का पालन करने की आवश्यकता है?

हाँ। निम्न दो कारणों से

1. जैसा कि मैंने पहले कहा था, वायरस के पूर्व संपर्क मुख्य रूप से बीमारी को होने से रोकता है, और संक्रमण या वाहक अवस्था को रोकने में असमर्थ हो सकता है। यदि आप के शरीर में कोरोनावायरस है तो आप अधिक खतरे वाले लोगों को फैला सकते हैं। मान लीजिए कि आप वायरस की एक बूंद को छूते हैं और अपने घर जाते हैं, तो आप दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं।

2. कभी-कभी, हमारी प्रतिरक्षा कोशिकाएं कोरोना से लड़ने की प्रशिक्षण “भूल जाती हैं” और इसलिए आपको बीमारी का दूसरा एपिसोड मिल सकता है। ऐसी घटना होने की खबरें हैं।

       यही कारण है कि आप रोकथाम के सभी दिशानिर्देशों का पालन करते हैं जैसे कि सामाजिक दूरी, मास्क पहनना और हाथ धोना, भले ही आप सोचते हों कि आप युवा और फिट हैं। इनमें से, सामाजिक दूरी (घर से बाहर जाने से बचना), जब तक कि यह आवश्यक नहीं है, सबसे प्रभावी और व्यावहारिक है। इसके अलावा, हमें याद रखना चाहिए कि आर्थिक कारणों, ठीक होने की दर में सुधार और हमारे अस्पताल अधिक तैयार होने के कारण लॉकडाउन हटा लिया गया है। कोरोना अभी भी वही है। ये कदम अन्य वायरस जैसे फ्लू, सर्दी जुखाम और टीबी के संक्रमण को रोकने में भी मदद करते हैं।

11. मुझे अभी बच्चा हुआ है। क्या लोग देखने आ सकते हैं?

      शिशुओं के लिए, सभी श्वसन वायरस से बचना महत्वपूर्ण है। मेरा सुझाव है कि आप यादृच्छिक आगंतुकों से बचें। इसके अलावा, बच्चा 6 महीने के होने के बाद आप नामकरण समारोह रख सकते हैं। तब भी आप केवल कुछ आगंतुकों को अनुमति दें और सभी निवारक उपायों का पालन करें जैसे सामाजिक दूरी, नियमित रूप से हाथ धोना और मास्क पहनना। अगर कोई बीमार है तो उन्हें आने से मना कर दें।

12. मेरे बच्चे को टीका देने के समय आ गया है। क्या महामारी के दौरान टीका देना होना सुरक्षित है?

     हाँ। नियमित टीकाकरण जरूर जाना चाहिए। उन्हें विलंबित करने से आपके बच्चे को दूसरे गंभीर संक्रमण का खतरा हो सकता है। हालाँकि, इसे समेकित बाल विकास सेवा (आईसीडएस) केंद्र या प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पएचचसी) या अन्य स्थानों से करने की कोशिश करें जहाँ भीड़ कम हो।

13. कोरोना के बारे में मेरे बच्चों को कैसे शिक्षित किया जाए?कोरोना के बारे में मेरे बच्चों को कैसे शिक्षित किया जाए?

    बच्चों और किशोरों के लिए महामारी और सामाजिक दूरी के मानदंडों का सामना करना कठिन है।

  1. अपने बच्चों को आश्वस्त करें कि प्राथमिक कार्यकर्ता सभी को सुरक्षित और स्वस्थ रखने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।
  2. पता करें कि उन्हें क्या पता है कि क्या हो रहा है। किसी भी गलत सूचना को सही करें। (मेरे पास एक 5 साल के बच्ची डरी हुई आई थी कि उसे कोरोना है, कोई लक्षण नहीं होने और किसी बिमार के साथ संपर्क ना होने के बावजूद)।
  3. ईमानदार रहें, लेकिन सकारात्मक। सुदृढ़ करें कि उन्हें बीमार होने की संभावना काफ़ी कम है, लेकिन यह भी महत्वपूर्ण है कि वे अपनी और अपने परिवार की रक्षा करने के लिए अपनी भागीदारी दें।
  4. सामाजिक दूरी के कारण मोबाइल, टीवी और कंप्यूटर देखने का समय बढ़ा है। विशेष रूप से सोशल मीडिया पर समाचार में वे क्या देख रहे हैं ध्यान दें। माता-पिता के साथ समाचार (यदि बिल्कुल देखना है तो) बेहतर है।
  5. फोन, टीवी या कंप्यूटर के बिना रचनात्मक गतिविधियों को प्रोत्साहित करें।

14. कोरोना महामारी कब खत्म होगा?

       मुझे नहीं लगता कि किसी के पास इसका उत्तर है (यदि कोई आपको विशिष्ट उत्तर देता है, तो वह भी नहीं जानता)। हालांकि, मुझे लगता है कि यह कुछ वर्षों तक चलेगा जब तक कि झुंड प्रतिरक्षा स्थापित न हो प्राकृतिक संक्रमण (या शायद टीकाकरण) द्वारा। कोविड-19 की जानकारी के लिए विश्वसनीय वेबसाइटें सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (सीडीसी) , विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की हैं।

नीचे N95 मास्क, घर में इस्तेमाल की जाने वाली पल्स ऑक्सीमीटर और इन्फ्रारेड थर्मोमीटर कके लिंक हैं



Leave a Reply